उजियारपुर: मनरेगा द्वारा किए गए तमाम कार्यों की उच्च स्तरीय जांच एवं भ्रष्ट मनरेगा पी.ओ. को बर्खास्त करो- भाकपा माले

उजियारपुर प्रखंड के कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा द्वारा की जा रही धांधली एवं भ्रष्टाचार के खिलाफ क्षेत्र के तमाम राजनैतिक पार्टियां आंदोलन करने पर उतारू हो चुके है। राजद के महासचिव ने सरकार को आवेदन दकेर कार्यों की उच्चस्तरीय जांच करवाने की मांग की जा रही है तो वही भाकपा माले उजियारपुर ने पीओ के खिलाफ आज गुरुवार को सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ हाथों में बैनर- झंडे लेकर गगनचुंबी नारा लगाते हुए उजियारपुर प्रखंड मुख्यालय से प्रतिरोध मार्च निकाल कर मनरेगा कार्यालय के सामने सभा को संबोधित किया।

सभा की अध्यक्षता गंगा प्रसाद पासवान एवं संचालन अर्जुन दास के द्वारा किया गया एवं सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि मनरेगा कार्यालय में दलालों का जमघट लगा रहता है। तमाम योजनाओं में फर्जीवाड़ा चरम सीमा पर है, योजनाओं में जैसे- वृक्षारोपण , मनरेगा कार्ड बनाने में पैसा वसूली, पशु सेड, मिट्टी करण, कब्रिस्तान घेराबंदी, पोखर उड़ाही, नाला उड़ाही, प्रधानमंत्री आवास योजना में लाभार्थी के बदले दुसरों के नाम पर फर्जी निकासी आदि कामों में जॉब कार्डधारी से काम नहीं लेकर उनके जगह जेसीबी द्वारा काम कराया जाता है।

Join Telegram channel

वास्तव में जो मजदूर है उसके खाते में पैसा ना भेजकर फर्जी मजदूरों से 50% कमीशन लेकर दलालों के द्वारा उसके खाते में पैसा डाल दिया जाता है। यह बहुत बड़ा फर्जीवाड़ा है जिसमें मनरेगा कर्मियों को दलालों का सहयोग मिलता है। गुरुवार को किया गया प्रतिरोध सभा में भाकपा माले प्रखंड कमेटी सदस्य गंगा प्रसाद पासवान ने कहा कि मनरेगा कार्यालय के भ्रष्टाचार के खिलाफ जो मीडिया कर्मी और राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ता भंडाफोड़ कर विरोध करता है उस पर झूठा मुकदमा या जान-माल की खतरा का शिकायत दर्ज करा दिया जाता है।

इस तरह की तानासाही भाकपा माले कभी बर्दाश्त नहीं करेगा यदि उजियारपुर मनरेगा के PO द्वारा अर्जित की गई संपत्ति की उच्च स्तरीय जांच कराया जाए तो अवैध रुप से अर्जित की गई करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हो जाएगा। भाकपा माले उच्चाधिकारी से मांग करता है कि दोषी मनरेगा के पी.ओ. को नौकरी से बर्खास्त करते हुए उसके द्वारा झारखंड में अर्जित की गई अवैध सम्पत्ति को जप्त किया जाए। उन्होंने बताया की सिर्फ मनरेगा कार्यालय में भ्रष्टाचार का ऐसा आलम नहीं है बल्कि प्रखंड मुख्यालय का तमाम कार्यालयों का यही हाल है।

जिसमें एक राशन के बोरा उठाने वाला मजदूर की मजदूरी ₹4 प्रति बोरा की जगह ₹1.5 प्रति बोरा दिया जाता है जो बिल्कुल गलत है। गरीबों का हक खाने वाले गोदाम मैनेजर के खिलाफ जांच करा कर कानूनी करवाई की जाने की गारंटी होनी चाहिए। भाकपा-माले द्वारा पहले से तय 15 जुलाई 2021 को प्रखंड मुख्यालय पर भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा जिसको सफल बनाने के लिए आम- आवाम से अपील भी प्रर्दशन में वक्ताओं ने किया। सभा को संबोधित मो. आजाद, मो. यूसुफ, मो. सुल्तान, राकेश कुमार, अर्जुन दास, नवीन कुमार, मो. सकुर, आइसा जिला सह सचिव मो. फरमान, बौधु सिंह, सिरजू कुमार, संतोष कुमार, पासवान मदन कौशिक, प्रवीण आनंद, भीम साहनी, धर्मेंद्र सहनी, मंतोष कुमार, लक्ष्मण कुमार, भोला सहनी, आइसा जिला उपाध्यक्ष ललित कुमार सहनी, पप्पू कुमार, कमलेश कुमार एवं अन्य कई लोगों के द्वारा किया।

Like & Follow for latest Updates| सस्ते रेट में यहाँ पर विज्ञापन के लिए संपर्क करें या व्हाट्सप्प करें: +918674830232

टेलीग्राम चैनल से जुडने के लिए यहां क्लिक करे


HTML tutorial