Muharram 2021 date: जानिए 2021 में मुहर्रम किस दिन मनाया जाएगा, मुहर्रम से संबंधित पढ़िए पूरी जानकारी


Muharram 2021 date: इस्लामी कलेंडर के अनुसार मुहर्रम इस्लामी कलेंडर का पहला महिना होता है और मुस्लिम समुदाय के लिए यह महिना काफी पाक माना जाता है। वही अगर बात करें वर्ष 2021 में मुहर्रम कब मनाया जाएगा तो आपको बता दें के अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार मुहर्रम 19 अगस्त 2021 को मनाया जाना है। वही इस्लामी कलेंडर के अनुसार मुहर्रम महीने के 10वें दिन मुस्लिम समुदाय के लोग आशुरा के रूप में मनाते है।

muharram 2021 date, muharram 2021, islamic new year 2021, muharram, islamic date today, muharram 2021 date in india, islamic new year, urdu date today, happy islamic new year, islamic calendar 2021, when is muharram 2021, today islamic date, happy islamic new year 2021, islamic calendar, muharram dp, today islamic date in india, muharram date, gujarat chand committee, arabic date today, islamic date, hijri date today, muharram status, happy new year islamic, islamic date today in india, islamic new year 2021 date,

वही मुहर्रम के महत्व के बारे में अगर बात करें तो अरबी भाषा में मुहर्रम का अर्थ होता है शोक या गम अर्थात मुहर्रम महिना इस्लामिक कलेंडर के अनुसार मुस्लिम समुदायों के लिए गम या शोक का महिना होता है। मुसलमान रमजान के बाद इस महीने को दूसरा पवित्र महिना मानते है। मुहर्रम के इतिहास के बारे में बताया जाता है की शिया मुस्लिम समुदाय अली के बेटे हुसैन इब्न अली एवं कर्बला युद्ध से पैगंबर मुहम्मद के पोते के निधन पर शोक व्यक्त किया जाता है।

Join Telegram channel

कर्बला इराक में एक प्रसिद्ध तीर्थयात्रा गंतव्य है जहां पर 680 ई में हुसैन इब्न अली मारा गया था। वे अंतिम समय तक यजीद प्रथम सेना के साथ लड़ाई करता रहा और युद्ध में उनकी मौत हो गई। वही मुस्लिम समुदायों के द्वारा मुहर्रम महीने के दसवें दिन को आशुरा के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि उस दिन हुसैन के बहादुर बलिदान को याद कर मुस्लिम समुदाय आशुरा के रूप में मनाते है। आशुरा का दिन मुस्लिमों के लिए भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकी इसी दिन मूसा और उसके अनुयायियों ने मिस्त्र के फिरौन पर विजय प्राप्त किया था।

शिया मुस्लिम समुदाय के लोग इस मौके पर मजलिस और मातम करके इमाम हुसैन की याद को ताजा करते हैं। मुहर्रम के दौरान मुसलमान इमाम हुसैन के इंसानियत के पैगाम का प्रचार-प्रसार करते हैं साथ ही मुहर्रम के दसवें दिन यानी आशूरा के दिन पैगंबर मुहम्मद के नवासे हजरत इमाम हुसैन इब्ने अली को उनके परिवार और 72 साथियों के साथ इराक के करबला में तीन दिन का भूखा प्यासा शहीद कर दिया गया था और उसी दिन से मुहर्रम का मनाने की परंपरा शुरू कर दी गई। कुछ जगहों पर इस्लामिक कलेंडर के नए महीने की 9वीं से लेकर 11वीं तक लोगों को मुफ्त भोजन बांटा जाता है, जिसे तबर्रुक के नाम से जाना जाता है।

Like & Follow for latest Updates| सस्ते रेट में यहाँ पर विज्ञापन के लिए संपर्क करें या व्हाट्सप्प करें: +918674830232

टेलीग्राम चैनल से जुडने के लिए यहां क्लिक करे


HTML tutorial